Sunday, December 13, 2020

दर्जी की छोटे क'द की बे'टियों ने किया कमाल, NEET परीक्षा निकाल मेडिकल कॉलेज में दाखिला


मुंबई की रहने वाली छोटे क,द की दो बे,टियों को लेकर लोगों के मन में हमेशा सं,शय रहता था कि क्या ये जिंदगी में कुछ सा,र्थक कर पाएंगी या नहीं। लेकिन नागपाड़ा इलाके में रहने वाले एक दर्जी की इन दो बे,टियों ने मेडिकल एंट्रेस परीक्षा (NEET) निकालने के बाद MBBS में एडमिशन सु,रक्षित कर सबको जवाब दे दिया है।





दर्जी की बौनी बेटियों जुबैदा, हुमैरा जिन्होंने NEET में कामयाबी हासिल की -  Naqeeb News




साढ़े तीन फुट क,द की जुबैदा (23) और उनकी बहन 3.9 फुट की हुमैरा (22) ने अपनी प्रतिभा के दम पर कमाल कर दिखाया है। जुबैदा को जलगांव के सरकारी मेडिकल कॉलेज और हुमैरा को टो,पीवाला नायर मेडिकल कॉलेज में दाखिला मिला है। उनके पिता ए,हसानउ,ल्लाह दर्जी का काम करते हैं और मां रुखसार गृ,हिणी हैं।





dwarf sisters: Mumbai: दर्जी की छोटे कद की बेटियों ने किया कमाल, NEET  परीक्षा निकाल मेडिकल कॉलेज में दाखिला - mumbai nagpada tailor's 'dwarf'  daughters rise above obstacles crack neet ...




दोनों इ,दरीसी ब,हनों की कि,स्मत पिछले साल बदल गई, जब उनकी मुलाकात खि,दमत चै,रिटेबल ट्र,स्ट के अशफाक मूसा से हुई। नागपाड़ा के पी टी माने गार्डेन के एक कोने में चलने वाली डिस्पेंसरी स्थानीय ए,नजीओ के सहयोग से चलती है। एक दिन अपनी दादी के लिए दवा लेने गई बहनों की मुलाकात अशफाक मूसा से हो गई।





International Day of Disabled Persons : कमी उंचीवर मात करत NEET पास  झालेल्या बहिणींची गोष्ट - BBC News मराठी




बातचीत में बहनों ने बताया कि डॉक्टर बनने के सपने को छोड़कर उन्होंने साइंस से ग्रेजुएशन किया। अशफाक ने छोटे क,द की वजह से परीक्षा में होने वाले फायदे की जानकारी दी। अधिक जानकारी करने पर पता चला कि बहनें अलग प्रकार के डि,सएबल की कैटिगरी में आती हैं और वे NEET की परीक्षा में इसका फायदा उठा सकती हैं।





International Day of Disabled Persons : कमी उंचीवर मात करत NEET पास  झालेल्या बहिणींची गोष्ट - BBC News मराठी




जुबैदा और हुमैरा की मां रुखसार ने कहा कि अशफाक भाई हमारी गु,ड़ियों के लिए फ,रिश्ता बनकर आए। वहीं अशफाक ने कहा कि किसी ने ब,च्चियों को लैब टेक्निशन बनने या फिर BUMS जॉ,इन करने की सलाह दी लेकिन उनके सी,ने में आ,ग ध,धक रही थी। केवल सही दिशा की जरूरत थी।





(NBT से साभार)


0 comments:

Post a Comment