Friday, December 18, 2020

हाथ'रस केस: CBI ने चार्जशीट में माना, द'-लित के साथ पहले गैं'-गरे'-प हुआ था


द'-लित लड़की से कथित गैं'-गरे'-प और 'ह'-त्या के मामले में CBI ने को'-र्ट में चार्जशीट दाखिल कर दी है. जांच एजेंसी ने चारों आ'-रोपियों पर गैं'ग'-रे'-प और ह'- त्या का आरोप लगाया है. 22 सितंबर को दिए लड़की के मृ'-त्यु'पूर्व बयान को आधार मानते हुए चारों को आ'-रोपी बनाया गया है. इनके खिलाफ SC/ST एक्ट के तहत भी आ'-रोप लगाए हैं.





CBI ने शुक्रवार, 18 दिसंबर को हा'-थरस के कोर्ट में चा'र्ज'-शीट दाखिल की. आरो'-पियों के वकील मुन्ना सिंह पुंढीर ने कहा कि चारों आरो'-पियों- संदीप, लवकुश, रवि और रामू के ऊपर रे'-प और ह'-त्या का आ'-रोप लगाया गया है.





हाथर'स के एक गांव की 19 बरस की लड़की 14 सितंबर को कथित तौर पर गैं'-गरे'-प का शिकार हुई. अलग-अलग अस्पतालों में इलाज चला. घटना के 15 दिन बाद उसकी मौ'-त दिल्ली के अस्पताल में हो गई. लड़की की मौ'-त के बाद रात में ही उसके शव का अंतिम सं'-स्कार कर दिया गया. परिवार वालों का कहना है कि उनकी मर्ज़ी के बिना पुलि'-स ने ज़बरन दाह संस्कार किया.





इसके बाद लोगों का गु'-स्सा भ'-ड़का. पुलिस की कार्रवाई के खि'-लाफ जगह-जगह पर वि'-रोध प्रदर्शन हुए. दलित लड़की के कथित गैं'-गरे'-प और ह'-त्या की घटना से ‘हैरान’ होकर इलाहाबाद हाई कोर्ट की लखनऊ की बेंच ने 1 अक्टूबर को यूपी के उच्च अधिकारियों को समन भेजा. इसके बाद मामला सुप्रीम कोर्ट तक पहुंचा था.





इस केस को लेकर देशभर में प्रदर्श'-न हुए थे. मामले में कई ट्विस्ट भी आए. यूपी पुलिस ने पो'-स्टमॉर्टम रिपोर्ट के आधार पर दावा किया था कि पीड़िता के साथ गैं'-ग'रे'प नहीं हुआ. यूपी पुलिस के इस बयान के बाद कोर्ट ने यूपी पुलिस को फ'-टकार भी लगाई थी. बाद में, इस मा'-मले की जांच के लिए यूपी की योगी सरकार ने एस'आई'टी भी बनाई, जिसने रिपोर्ट सरकार को सौंप दी. लेकिन मामला गरमाया रहा.





राजनीतिक दल भी सामने आ गए. उसके बाद, यो'-गी सरकार ने सी'बी'आई जांच की सिफारिश की. सी'बी'आई ने जांच संभाली. कई बार पी'ड़िता के परिवार से पूछ'ताछ की. इसके अलावा अली'गढ़ जे'-ल में बंद चारों आरो'पि'यों से भी पूछताछ की गई. आरो'पि'-यों का पॉलीग्राफी टेस्ट और ब्रेन मैपिंग भी कराया गया. अब सीबीआई ने चा'र्जशीट दाखिल की है.


0 comments:

Post a Comment