Sunday, December 13, 2020

ऑस्ट्रेलियाई शख्स ने सच्ची मोहब्बत के लिए क़ुबूल किया ‘इ,स्लाम’ कहा, इ,स्लाम की वजह से मुझे…


कहते है कि प्यार में पड़ा इंसान कुछ भी कर सकता है. हर इंसान चाहता है कि उसे सच्चा प्यार मिले और जब उसे यह सच्चा प्यार मिलता है तो वह इसे पाने के लिए कुछ भी कर सकता है. ऐसा ही कुछ एक ऑस्ट्रेलियाई व्यक्ति ने किया. एक 32 वर्षीय ऑस्ट्रेलियाई व्यक्ति को एक लड़की से प्यार हुआ और उसने अपने सपनों की लड़की से शादी करने के लिए इ,स्लाम ध,र्म कुबूल कर लिया.





इस ऑस्ट्रेलियाई शख्स ने अपना ख्वाब पूरा करने के लिए क़ुबूल किया 'इस्लाम'  कहा, इस्लाम की वजहें से मुझे...ऑस्ट्रेलियाई व्यक्ति ने अपनी इराकी पत्नी की सं,स्कृति, ध,र्म और प,रंपराओं में खुद को डुबोने और इ,स्लाम ध,र्म से मोहब्बत हो जाने के यह कदम उठाया. एबीसी न्यूज की रिपोर्ट के अनुसार इस ऑस्ट्रेलियाई व्यक्ति का नाम बोगार्ट लैम्प्रे है.





रिपोर्ट्स के अनुसार बोगार्ट लैम्प्रे की पहली मुताकत 31 वर्षीय नूरा अल मटोरी से ऑस्ट्रेलिया के वाग्गा वाग्गा शहर के एक कैफे में हुई थी. उस समय के बाद से ही लैम्प्रे ने अगले छह महीने का समय अल मटोरी से मिलने और उनसे बात करने की उम्मीद में कैफे जाकर बिताने का फैसला किया.





Noora Al Matori and Bogart Lamprey - ABC News (Australian Broadcasting  Corporation)उन्होंने बताया कि वह हर बार जब कैफ़े में जाते थे तो एक बार मैंने वहां के कर्मचारियों से नूरा के बारे में पूछा. उनकी दृढ़ता ने भुगतान किया क्योंकि उनके रास्ते फिर से पार हो गए और वह कॉफी के लिए उनसे मिलने में सक्षम हो गया.





इसके बावजूद नूरा ने केवल बोगार्ट को दोस्त माना. नूरा ने कहा मैंने इसे दोस्तों के रूप में रखा. मैं ऑस्ट्रेलियाई लोगों के आसपास बड़ी हुई हूँ और मेरे बहुत सारे दोस्त थे इसलिए उन्हें इसके साथ कोई समस्या नहीं थी.





Valentine's Day: The country guy who converted to Islam for the girl of his  dreams | EMOW.COM.AUउन्होंने कहा कि मैं खुद को किसी ऐसे व्यक्ति से शादी करते हुए नहीं देख सकती थी जो मध्य पूर्व से नहीं था इसलिए मैंने इस बारे में कभी सोचा ही नहीं. अपनी दोस्ती के दौरान लैंप्री नूरा की सं,स्कृति और मा,न्यताओं में अधिक डूब गया था.





Wiilkii – si uu u guursado Muslimad uu jeclaaday awgeed – diinta ugu soo  biiray. | HimiloNetworkउन्होंने तब फैसला किया कि अगर वह उनके साथ रहना चाहते हैं तो उन्हें पारंपरिक तरीके से काम करना होगा. इस बार उन्होंने कहा कि मैंने सं,स्कृति को जाना और समझा और इसके बाद मैंने इसे अपनाया. मैंने हर रात कु,रान का अध्ययन शुरू किया और इ,स्लाम कुबूल किया है.
(साभार)


0 comments:

Post a Comment