Friday, December 11, 2020

सरकार की गलत नीतियों ने डुबोया एक और बैंक.. हुआ कंगाल..


मुंबई: महाराष्ट्र (Maharashtra) के कराड स्थित ‘कराड जनता सह;कारी बैंक’ (Karad Janata Sahakari Bank Ltd) का रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) द्वारा लाइसें;स रद्द कर दिया गया है. ला;इसेंस रद्द होने के बाद अब बैंक बंद हो जाएगा. हा;लांकि राहत की बात यह है कि 99 प्रतिशत जमाकर्ताओं को उनकी पूंजी वापस मिल जाएगी.









इससे पहले न;वंबर 2017 से ही कराड जनता सह;कारी बैंक (Karad Janata Sahakari Bank Ltd) पर रिजर्व बैंक (RBI) की कुछ पाबंदि;यां लगी हुई थीं. रिजर्व बैंक ने बैंक का लि;क्विडेटर (Liquidator) नियुक्त करने का आदेश भी दिया था.





RBI के मुताबिक सेक्शन 22 के नियमों के मुताबिक बैंक के पास अब पूंजी नहीं और कमाई की भी कोई गुंजाइश नहीं है. कराड बैंक बैंकिंग रेगुलेशन 1949 के से;क्शन 56 के पैमानों पर खरा नहीं उतरा, इसके चलते उ;सका ला;इसेंस रद्द किया गया है.





आर;बी;आई (RBI) ने कहा है, अब बैंक को चा;लू रखना जमाकर्ताओं के हित में नहीं है. मौजूदा स्थिति में बैंक अपने डि;पॉजिटर्स को पूरा पैसा नहीं दे पा;एगा. DICGC एक्ट 1961 के अंतर्गत डिपॉजिटर्स को बैंक के लिक्विडेशन पर 5 लाख तक रकम मिलेगी. राहत की बात यह है कि 99 प्रतिशत डिपॉ;जिटर्स को अपनी पूंजी DICGC के जरिए मिल जाएगी.


0 comments:

Post a Comment