Thursday, November 26, 2020

EVM की जगह बैलेट पेपर का इस्तेमाल कर हो चुनाव, सुप्रीमकोर्ट पहुंचा मामला



पि'छले काफी समय से ई'वी'एम को लेकर वि'पक्षी दलों द्वारा ल'-गातार सवाल खड़े किये जा रहे हैं। हा'-लांकि चु'-नाव आयोग ई'वी'एम से किसी तरह की छे'-ड़'छा'ड़ की संभावना से इंका'-र करता रहा है लेकिन इसके बा'-वजूद अब ई'वीएम की जगह बैलेट पेपर से चुनाव कराये जाने की मांग जोर प'-कड़ती जा रही है।





ई'वी'एम की जगह मतपत्रों के इ'-स्तेमाल की मांग का मा'-मला अब सुप्री'-मकोर्ट तक पहुंच गया है। अ'-धिवक्ता सी'आर जया सुकिन ने बुधवार को सुप्री'मकोर्ट में दा'-यर अपनी या'-चिका में कहा है कि सुप्री'-मकोर्ट चुनाव आयोग को मत'-दान के लिए ई'वी'एम की जगह मतपत्रों के इस्ते'-माल का आ'-देश जारी करे।









या'-चिका में तर्क दिया गया है कि ई'वी'एम को लेकर लगातार सं'-देह बने हुए हैं। दु'-निया के कई देशो ने चु'-नाव में ई'वी'एम के इस्ते'-माल को छो'-ड़कर मतपत्रों के इ'-स्तेमाल को प्राथ'-मिकता देते हुए मत'-पत्रों से चु'-नाव की प्रणा'-ली को अपनाया है।





या'-चिका में कहा गया है कि दु'-निया के देशो द्वारा लिए गए फै'-सले को देखते हुए भारत को भी इले'-क्ट्रॉनिक वो'-टिंग प्रणाली की जगह मतप'-त्रों से वोटिंग का सि'-स्टम अपना'-ना चाहिए। इतना ही नहीं या'-चिका में कहा गया है कि ई'वी'एम के साथ निर्माण के दौ'-रान ही छे'-ड़छा'ड़ की जा सकती है और ऐसे मा'-मलों में किसी है'-कर या हे'-राफेरी करने वाले व'यक्ति को वा'-स्तविक मतदान में छे-ड़छा'ड़ करने की जरू'रत नहीं है।





याचि'का में ई'वी'एम से छे'-ड़छा'ड़ की आशंका को लेकर तर्क दिया गया है कि दु'-निया में कोई भी इले'-क्ट्रॉनिक डि'-वाइस ऐसी नहीं है जिससे छे'-ड़छा'ड़ न किया जा सके। चूंकि ई'वी'एम पर संदेह बरक'रार है, इसकी सत्य-ता और सुर'-क्षित होने को लेकर आज भी सवाल बने हुए हैं। इसलिए सुप्रीम'कोर्ट चुनाव आयोग को आदेश जारी करे कि भविष्य में होने वाले सभी चु'-नाव मतपत्रों से कराये जाएँ।


0 comments:

Post a Comment