Tuesday, November 10, 2020

‘कोई बाहरी बीच में आया तो हम तुर्की की से’ना बुलाएँगे’, आर्मीनिया से जं’ग के बीच अज़रबैजान का बयान..


अज़रबैजानी रा-ष्ट्रपति इलहाम अलीयेव ने कहा है कि अगर कोई और देश अज़'रबैजान को धम’काने की को-शिश करता है तो वो तुर्की की फ़ौज को अज़रबैजान में बुलाएँगे. नागोर्नो-काराबाख़ में आर्मीनिया के ख़ि-लाफ़ चल रही जं’ग के बीच अज़रबैजान के राष्ट्रपति ने ये बयान दिया है.





ये बात किसी से छुपी नहीं है कि अज़रबै-जान को तुर्की से अ-प्रत्यक्ष मदद मिल रही है. इस वक़्त जं’ग एक ऐसे मु-क़ाम पर पहुँच चुकी है जहाँ से आ-र्मीनिया की हार सामने दिख रही है. शूशा शहर में जीत का परचम लहराने के बाद अलियेव ने कहा कि हमने हमारे पड़ो-सी देशों स-मेत सभी देशों से कहा है कि इस कन-फ्लिक्ट से दूर रहें.









अ-लियेव ने कहा कि अगर अज़रबै-जान पर कोई आ’क्रमण करता और उसे तुर्की की सेना से मिलिट्री मदद की ज़रूरत होती है तो हमारा तुर्की से इस बारे में एक समझौता है जो कई साल पहले वजूद में आया था कि अगर कोई आ’क्रमण करे तो दोनों सै’न्य सहयोग करेंगे.





अलियेव ने हालाँकि ये भी कहा कि उन्हें लगता नहीं है कि तुर्की की मदद की ज़रूरत पड़ेगी. अलियेव का बयान तब आया है जब 28 साल के अवैध अर्मेनियाई क़ब्ज़े के बाद शूशा शहर को अज़रबैजान ने आज़ाद करा लिया.





अज़रबैजान की सेना ने एतिहासिल शूशा शहर से अर्मे-नियाई फ़ौज को खदेड़ दिया है. इतवार के रोज़ अज़रबैजान के राष्ट्रपति इल्हाम अलि-येव ने घोषणा की कि 28 साल के अवैध क़ब्ज़े के बाद नागोर्नो-काराबाख़ क्षेत्र में पड़ने वाले निर्णायक शहर शूशा को अर्मीनिया से आज़ाद करा लिया गया है.


0 comments:

Post a Comment